LIVE VIDEO: बिहार में तेजस्वी यादव के करीबी को दिनदहाड़े गोलियों से भूना, चार साल पहले पिता की भी हुई थी हत्या

HAJIPUR, VAISHALI : बिहार में अपराधियों का हौसला बुलंद है. आलम यह है कि सरकार के मंत्री के नजदीकी की हत्या दिनदहाड़े कर दी गई. मामला लोकतंत्र की जननी के रूप में चर्चित वैशाली जिले से सामने आया है. जहां डिप्टी सीएम तेजस्वी यादव के करीबी की दिनदहाड़े 5 गोली मारकर हत्या कर दी गई. इस घटना से इलाके में सनसनी फैल गई है. साथ ही बिहार पुलिस के इकबाल पर भी सवाल खड़े हो रहे हैं. घटना के संबंध में मिली जानकारी के अनुसार मृतक अजय तिवारी बिजली विभाग के कर्मचारी थे. साथ ही वो हाजीपुर के केदार चौक पर किराना की दुकान भी चलाते थे. आज सुबह वो अपनी दुकान पर थे, उसी समय बाइक सवार अपराधी आए और उसने सिगरेट मांगी. जैसे ही अजय तिवारी सिगरेट निकालने के लिए झुके बदमाशों ने उन्हें एक गोली मार दी. इसके बाद फिर लौटकर आए और चार गोलियां और मार दी. इससे दुकान में अजय तिवारी की मौत हो गई.

घटना का सीसीटीवी फुटेज आया सामने

इस पूरी घटना का सीसीटीवी फुटेज भी सामने आया है. जिसमें बदमाशों की पूरी कारगुजारी कैद है. वीडियो के अनुसार एक बाइक पर सवार होकर दो अपराधी ग्राहक बन दुकान में आए और दुकानदार से सिगरेट मांगी. जैसे ही दुकानदार सिगरेट निकालने लगा, इसी बीच बदमाशों ने उन्हें गोलियों से छलनी कर दिया. मृतक की पहचान बिजली विभाग के कर्मी सदर थाना क्षेत्र के मीनापुर राई गांव निवासी स्व महेश तिवारी के 55 वर्षीय पुत्र अजय तिवारी के रूप में हुई.

एक ही बाइक पर सवार होकर आए थे तीन बदमाश

बताया जाता है कि एक ही बाइक पर सवार हो कर आए तीन अपराधियों ने अजय तिवारी को पांच गोलियां मारी. अजय तिवारी को चार गोली सीने में तो एक गोली सिर में मारी गई. जिसके कारण युवक की घटनास्थल पर ही मौत हो गई. हालांकि परिजनों अजय को लेकर सदर अस्पताल पहुंचे. लेकिन डॉक्टर ने उन्हें मृत घोषित कर दिया.

ढांढस बंधाने पहुंचे बीजेपी विधायक

घटना की जानकारी मिलने के बाद सदर थाने के पुलिस अधिकारी ने मामले की जांच-पड़ताल शुरू कर दी है. घटना की जानकारी मिलने के बाद हाजीपुर बीजेपी विधायक अवधेश कुमार सदर अस्पताल पहुंचकर परिजनों को ढांढस बांधते दिखे. इधर अजय तिवारी की बेखौफ हत्या से इलाके में सनसनी फैल गई है. लोग कानून-व्यवस्था पर सवाल खड़े कर रहे हैं.

चार साल पहले पिता की भी हुई थी हत्या

इधर स्थानीय लोगों ने बताया कि 4 साल पहले अजय तिवारी के पिता की भी गोली मारकर हत्या की गई थी. ऐसे में इस घटना के पीछे आपसी रंजिश का शक भी जताया जा रहा है. पुलिस मामले की छानबीन में जुटी है. दूसरी अजय तिवारी के घर में कोहराम मचा है. चार साल में पिता-पुत्र को खोने के बाद उनका परिवार पूरी तरह से टूट गया है.