Bihar Today News: थाने में तैनात फर्जी दारोगा गिरफ्तार, थानाध्यक्ष पर गिरेगी गाज

KHAGARIA [JKNEWS175] : बिहार के खगड़िया जिले के मानसी थाना में लगभग एक माह तक फर्जी दारोगा बनकर रहे विक्रम कुमार को पुलिस ने सोमवार को गिरफ्तार कर लिया. उसके पास से एक मोबाइल व दो एडमिट कार्ड बरामद किया गया. वह गत 26 अगस्त को मानसी थाना में अपना योगदान कर प्रशिक्षु के रूप में कार्य कर रहा था.

जांच में पाया गया कि उसके पदस्थापन व प्रतिनियुक्ति को लेकर योगदान को लेकर कोई आदेश व निर्देश मानसी थानाध्यक्ष को नहीं दिया गया था. गत सात जुलाई को विधिवत जिलादेश के साथ मानसी थाना में चार पुलिस पदाधिकारियों ने योगदान किया. जिसमें विक्रम का नाम नहीं था.

CPI-M के प्रखण्ड सचिव सुरेन्द्र प्रसाद सिंह ने कहा, ताजपुर फायरिंग कांड के आरोपियों को गिरफ्तार करे पुलिस

मानसी थानाध्यक्ष दीपक कुमार ने इस मामले में विक्रम के विरुद्ध कांड संख्या 295/2021 के तहत केस दर्ज कराया है. आरोपी बेगूसराय जिले के भगवानपुर प्रखंड अंतर्गत सतराजेपुर गांव निवासी रामचन्द्र सहनी का पुत्र बताया जा रहा है. उल्लेखनीय है कि इस मामले में गोगरी के आरटीआई कार्यकर्ता मनोज कुमार मिश्रा ने गत 26 अक्टूबर को एसपी को आवेदन देकर फर्जी दारोगा के विरुद्ध कार्रवाई की मांग की थी.

जिसमें उन्होंने पुलिस की वर्दी पहनकर लाखों रुपये कथित वसूली का आरोप लगाया. वहीं इसे गंभीर मसला बताते हुए कहा कि इससे लोगों में असली व नकली पुलिस की पहचान को लेकर गलत धारणा बन रही है.

Crime News: समस्तीपुर में साधु के भेष में ठगी करने वाला दो शातिर को पुलिस ने किया गिरफ्तार

जिससे बिहार पुलिस की छवि खराब हो रही है. वरीय पुलिस पदाधिकारी से जांचकर फर्जी दारोगा के विरुद्ध कठोर कार्रवाई की मांग की. प्राप्त आवेदन के आलोक में एसपी ने सदर एसडीपीओ से मामले की जांच करायी. सदर एसडीपीओ सुमित कुमार द्वारा जांच रिपोर्ट एसपी को सौंप दिए जाने के बाद फर्जी दारोगा के विरुद्ध प्राथमिकी दर्ज कर गिरफ्तार कर लिया गया. एसपी अमितेश कुमार ने बताया कि इस मामले में फर्जी दारोगा के विरुद्ध केस दर्ज के बाद गिरफ्तार कर न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है. जांच के क्रम में थानाध्यक्ष के द्वारा लापरवाही, स्चेच्छाचारिता, मनमानेपन, आदेशोल्लंघन व वरीय पदाधिकारियों को गुमराह किया जाना पाया गया है.

थानाध्यक्ष की कृत्य से पुलिस की छवि आम जनता में धूमिल हुई है. इसको लेकर थानाध्यक्ष के विरुद्ध विभागीय कार्रवाई की प्रक्रिया अपनायी जा रही है.