बिहार में शौच के लिए गई नाबालिग छात्रा के साथ दुष्कर्म होता देख हेडमास्टर भी बना दरिंदा, बचाने की बजाय किया घिनौना काम

KAIMUR, BIHAR : बिहार के कैमूर जिले से एक शर्मनाक मामला सामने आया है। यहां 14 वर्षीय नाबालिग के साथ रेप होता देखकर हेडमास्टर ने उसे बचाने की जगह खुद भी उसके साथ दुष्कर्म किया। नाबालिग शौच के लिए गई हुई थी। इसी दौरान गांव का ही लड़का उसे जबरदस्ती पकड़कर एकांत में ले गया और रेप करने लगा था। आरोपी के तीन दोस्त भी मौके पर मौजूद थे। तभी हेडमास्टर का वहां से निकलना हुआ। मगर, नाबालिग को बचाने की जगह वह खुद भी रेप करने में शामिल हो गया और इसके बाद सभी मौके से फरार हो गए।

दरअसल, कैमूर जिले के गांव की रहने वाले आठवीं क्लास में पढ़ने वाली 14 वर्षीय नाबालिग छात्रा शौच के लिए गांव की पहाड़ी पर गई हुई थी। गांव के ही चार लड़के पहले से ही वहां मौजूद थे। नाबालिग को देख उनकी नीयत बिगड़ गई। उनमें से एक लड़के ने नाबालिग को पकड़ा और पहाड़ी की दूसरी तरफ एकांत में ले गया।

आवाज सुनकर मौके पर पहुंचा हेडमास्टर

वहां लड़के ने नाबालिग के साथ गलत काम किया। इसी दौरान नाबालिग जिस स्कूल में पढ़ती थी, उसका हेडमास्टर भी वहां पहुंच गया। वह भी उसी गांव का ही रहने वाला था। छात्रा की आवाज सुन हेडमास्टर पहाड़ी की दूसरी तरफ पहुंचा। उसने देखा की नाबालिग के साथ गलत काम हो रहा है। मगर, नाबालिग को बचाने की जगह उसकी भी नीयत बिगड़ गई और हेडमास्टर ने भी नाबालिग के साथ रेप किया। गलत काम करने के बाद सभी वहां से चले गए। घर पहुंची नाबालिग ने खुद के साथ हुए रेप की घटना के बारे में परिवार को बताया।

पीड़िता सभी को जानती थी तो तुरंत ही परिवार के साथ महिला थाने जाकर केस दर्ज कराया। मामले में तत्परता दिखाते हुए पुलिस ने आरोपी हेडमास्टर को गिरफ्तार कर लिया है। बाकी के चार आरोपियों की तलाश में पुलिस छापेमारी कर रही है।

यह है पुलिस का कहना

महिला पुलिस थाने की इंचार्ज का कहना है कि पीड़िता के अनुसार उसके साथ हेडमास्टर और एक लड़के ने गलत काम किया है। बचे तीन लड़के जिनके नाम लिखाए गए हैं, उन्होंने रेप नहीं किया। मगर, सभी ने रेप होते देखा और रोकने की कोशिश नहीं की। नाबालिग से रेप के मामले में 376 डीए, पॉक्सो एक्ट 6 और एससी-एसटी के तहत आरोपी लड़के और हेडमास्टर के खिलाफ केस दर्ज कर लिया गया है। पुलिस का कहना है कि बचे हुए तीन लड़कों की संलिप्तता का पता किया जा रहा है। जांच के दौरान उनकी संलिप्तता सामने आती है, तो उन पर भी इसी धारा के तहत कानूनी कार्रवाई की प्रक्रिया आगे बढ़ेगी।