छपरा में जहरीली शराब पीने से अब तक 31 की मौत, तीन शवों का बिना पोस्टमार्टम कर दिया अंतिम संस्कार

CHHAPRA, SARAN : बिहार में एक बार फिर से जहरीली शराब का कहर देखने को मिला है. सारण जिले में जहरीली शराब पीने से मौत का आंकड़ा बढ़कर 31 पहुंच चुका है. इसमें सबसे अधिक मसरख के 10 लोगों की मौत हुई है, जबकि अमनौर के तीन एवं मढ़ौरा के एक व्यक्ति शामिल है. वहीं, बीमार पड़े कई लोगों ने आंखों की रोशनी घटने की शिकायत भी की है.

ताजा जानकारी के अनुसार, प्रशासन ने अभी तक 16 शवों का पोस्टमार्टम कराया है. वहीं तीन शवों का मृतकों के परिजनों ने पोस्टमार्टम कराए बिना ही अंतिम संस्कार कर दिया है. आधा दर्जन से अधिक लोगों का उपचार सदर अस्पताल एवं पटना के पीएमसीएच में चल रहा है. मृतकों के कई परिजन बीमारी से मौत होने की भी बात बता रहे हैं. पुलिस प्रशासन इस घटना पर कुछ भी बताने से इनकार कर रहा है. पुलिस कप्तान संतोष कुमार ने बताया कि पूरे मामले की अभी पड़ताल की जा रही है. घटना के बाद सोमवार की रात ही सदर अस्पताल में पुलिस बल की तैनाती कर दी गई है.

ग्रामीणों ने शव रखकर स्टेट हाईवे को किया जाम

इस घटना के विरोध में आक्रोशित ग्रामीणों ने मशरख हनुमान चौक स्टेट हाईवे-90 पर शव को रखकर जाम कर दिया है. स्थानीय ग्रामीण जिला प्रशासन के खिलाफ नारेबाजी कर रहे हैं. मशरख में ग्रामीण उग्र प्रदर्शन कर रहे हैं. आक्रोशित लोगों को समझाने के लिए पुलिस के वरीय पदाधिकारी कई थाने के पुलिस के साथ वहां पहुंचे हुए हैं.

मशरख, आमौर एवं मढ़ौरा के मरे हैं लोग

घटना के संबंध में ग्रामीणों ने बताया कि इसुआपुर थाना क्षेत्र के डोइला से आए जहरीली शराब पीने से अमनौर, मढौरा एवं मशरख प्रखंड के अब तक 30 लोगों की मौत हुई है. कई गंभीर रूप से बीमार हैं. सभी बीमारों को मशरख स्वास्थ्य केंद्र में भर्ती कराया गया है. वहां से एक व्यक्ति को छपरा सदर अस्पताल रेफर किया गया है. सदर अस्पताल में उनका इलाज चल रहा है.

प्राप्त जानकारी के मुताबिक, इसुआपुर थाना क्षेत्र में शराब पीने से डोयला गांव निवासी वकील सिंह के पुत्र संजय सिंह एवं मशरख जादू मोड निवासी यदु सिंह के पुत्र कुणाल कुमार की मौत पहले हुई, जबकि पचखान्दा के एक युवक सहित मशरख के हरेंद्र राम एवं डोयला के अमित कुमार की हालत नाजुक है. अमित कुमार का इलाज छपरा सदर अस्पताल में चल रहा है, जबकि अन्य बीमार लोगों का इलाज मशरख स्वास्थ्य केंद्र में किया जा रहा है.

सोमवार की रात लोगों ने पी थी शराब

बताया जाता है कि सभी लोगों ने सोमवार की शाम में एक जगह पर शराब पी रखी थी. इसके बाद मंगलवार के दिन से उनकी हालत बिगड़ने लगी. शाम में सभी को मशरख स्वास्थ्य केंद्र में भर्ती कराया गया. वहां इलाज के बाद छपरा रेफर किए जाने पर तीन लोगों की मौत हो गई थी. मशरख के हनुमानगंज निवासी अजय कुमार ने बताया कि डोयला बाजार में वह मुकेश शर्मा के साथ शराब पी थी. बताया जाता है कि शराब की खेप डोयला, बहरौली, अमनौर में पह़ंची थी.

मृतकों की सूची क्रम मृतक का नाम पिता का नाम पता

1 विजेन्द्र राय नरसिंग राय डोइला, इसुआपुर

2 हरेंद्र राम गणेश राम मशरक तख्त, मशरक थाना

3 रामजी साह गोपाल साह शास्त्री टोला मशरक

4 अमित रंजन द्विजेंद्र सिन्हा डोइला, इसुआपुर

5 संजय सिंह वकील सिंह डोइला, इसुआपुर

6 कुणाल सिंह यदु सिंह यदुमोड़ मशरख

7 अजय गिरि सूरज गिरि बहरौली, मशरक

8 मुकेश शर्मा बच्चा शर्मा मशरक

9 भरत राम मोहन राम मशरक तख्त, मशरक

10 जयदेव सिंह बिंदा सिंह बेन छपरा, मशरक

11 मनोज राम लालबहादुर राम दुरगौली, मशरक

12 मंगल राय गुलज़ार राय मशरक

13 नासिर हुसैन शमसुद्दीन मशरक तख्त

14 रमेश राम कन्हैया राम बेन छपरा मशरक

15 चन्द्रमा राम हेमराज राम मशरक

16 विक्की महतो सुरेश महतो मढ़ौरा

17 गोविंद राय घिनावन राय पचखंडा, मशरक

18 ललन राम करीमन राम मशरक पश्चिम टोला

19 प्रेमचंद साह बुन्नीलाल साह रामपुर अटौली, इसुआपुर

20 दिनेश ठाकुर असर्फी ठाकुर महुली, मशरक

21 सीताराम राय सिपाही राय बहरौली, मशरक

22 भरत साह गोपाल साह शास्त्री टोला मशरक

23 सलाउद्दीन मियां वकील मियां हुस्सेपुर थाना अमनौर

24 उपेंद्र राम अच्छेलाल राम हुस्सेपुर थाना अमनौर

25 उमेश राय शिवपूजन राय

हुस्सेपुर अमनौर छह मौतों के बाद 31 हुई मरने वालों की संख्या

इस सूची में अब पांच नाम और जुड़ गए हैं. इनमें मशरक बस स्टैंड महावीर मंदिर के पास रहने वाले स्व. शिवनाथ पटेल के पुत्र विश्वकर्मा पटेल और मशरक के गोपालबाड़ी निवासी शशि भूषण सिंह के पुत्र जयप्रकाश सिंह, मढ़ौरा के खरौनी में रहने वाले विक्रम राज, मशरक के घोघिया निवासी कृपाल साह के बेटे जतन साह, जतन साह का बेटा सुरेन साह और महुली चकहन इसुआपुर निवासी केसर महतो के पुत्र दशरथ महतो का नाम शाामिल है. वहीं सूची में दिए गए नामों में से क्रम संख्या 22, 23 और 25 के परिजनों ने पोस्टमार्टम कराए बिना ही अंतिम संस्कार कर दिया है.

इन मृतकों का सदर अस्पताल में हुआ पोस्टमार्टम

  1. मुकेश शर्मा (30 वर्ष) पुत्र- बच्चा शर्मा, हनुमानगंज थाना, मसरख, सारण
  2. अमित रंजन (38 वर्ष) पुत्र- दिजेंद्र कुमार सिंह, डोईला, थाना इसुआपुर, सारण
  3. संजय सिंह (45 वर्ष) पुत्र- वकील सिंह, डोइला, थाना इसुआपुर, सारण
  4. विजेन्द्र यादव (46 वर्ष) पुत्र- स्व. नरसिंह राय, डोईला, थाना इसुआपुर, जारण
  5. रामजी साह (55 वर्ष) पुत्र- गोपाल साह, शास्त्री टोला, थाना मरारक, सारण
  6. कुणाल कुमार सिंह (38 वर्ष) पुत्र- भदु सिंह, मशरख यदु मोड़, थाना मसरख, सारण
  7. नासिर हुसैन (42 वर्ष) पुत्र- समसुद्दीन, मशरख तख्त, थाना मसरख, सारण
  8. जयदेव सिंह (43 वर्ष) पुत्र- बिंदा सिंह, गांव बेंग छपरा, थाना मसरक, सारण
  9. रमेश राम- 42 वर्ष-कन्होया राम -गांव बेंग छपरा, थाना मसरक, सारण
  10. चंद्रमा राम (48 वर्ष) पुत्र- स्व. जीताराम, मशरख ,थाना मसरक, सारण
  11. विक्की महतो (42 वर्ष) पुत्र -सुरेश महतो, मढ़ौरा, सारणजहरीली शराब पीने से बीमार पड़े इन लोगों का चल रहा उपचार

शराब पीने से उल्टी व आंख की रोशनी कम

छपरा सदर अस्पताल में शराब पीने से उल्टी व आंख की रोशनी कम होने की शिकायत पर मशरक थाना क्षेत्र के बहरौली गांव निवासी मकसूद अंसारी के 32 वर्षीय पुत्र नूर हसन अंसारी, फुलेना साह के 37 वर्षीय पुत्र राजेश कुमार साह, स्वर्गीय मिश्री साह के 30 वर्षीय पुत्र रूपेश कुमार, धनेश्वर साह के 30 वर्षीय पुत्र सचिन साह, सुनील शाह के 25 वर्षीय पुत्र गोविंद कुमार, सूरज गिरि के 40 वर्षीय पुत्र अजय गिरि, फुलेना साह के 65 वर्षीय पुत्र नरेश साह, धनेश्वर साह के 28 वर्षीय पुत्र सुजीत कुमार, स्वर्गीय मथुरा साह के 30 पुत्र सूरज साह व 25 वर्षीय पुत्र सूरज कुमार, शत्रुघन महतो के 24 वर्षीय पुत्र सत्यदेव महतो, मथुरा साह के 35 वर्षीय पुत्र कमलेश कुमार एवं मसरख थाना क्षेत्र के मलमलिया रोड निवासी जटा साह के 37 वर्षीय पुत्र विश्वकर्मा पटेल, पचखंडा निवासी घिनावन राय के 70 वर्षीय पुत्र गोविंद राय, इसुआपुर थाना क्षेत्र के ढोला गांव निवासी शिवकुमार पंडित के 50 वर्षीय पुत्र अशोक पंडित का उपचार चल रहा है. शराब पीकर बीमार पड़े लोगों का अस्पताल में आने का सिलसिला देर रात तक रहा जारी

सारण जिले में जहरीली शराब पीकर बीमार पड़ने वाले लोगों का सदर अस्पताल में आने का सिलसिला बुधवार की रात 11: 15 बजे तक भी जारी रहा. बीमार पड़े लोगों के स्वजन एंबुलेंस एवं निजी वाहन से लेकर सदर अस्पताल में पहुंच रहे थे. परिजनों का कहना था कि बीमार लोगों ने बताया कि तबीयत ठीक नहीं थी इसलिए घर में ही आराम कर रहे थे, परंतु जब आंखों की रोशनी घटने की शिकायत महसूस हुई तो आनन-फानन में अस्पताल लाए.

हालांकि कई लोगों का कहना था कि प्रशासन ने माइक पर लोगों से उपचार कराने का आग्रह किया गया था. प्रशासन ने ऐलान किया था कि उपचार कराने पर किसी तरह का मुकदमा नहीं होगा. इसके बाद लोग निजी अस्पताल से बीमार लोगों को उपचार के लिए सदर अस्पताल में लेकर पहुंच रहे हैं. अस्पताल आने वालों में ज्यादातर को आंख की रोशनी कम होने की शिकायत है. नाजुक हालत वाले मरीजों को बेहतर इलाज के लिए पीएमसीएच रेफर किया जा रहा है.