बिहार में अनोखी शादी: बेटी की शादी में कार्ड नहीं छपवाए, पौधे बांट न्योता दे रहीं मुखिया

BAGAHA : बिहार के पश्चिम चंपारण जिले के बगहा में एक अनोखा तरीका अपनाया जा रहा है। जहां शादी में आने के लिए महंगे निमंत्रण कार्ड नहीं बल्कि एक-एक पौधा दिया जा रहा है। जहां एक मां ने बेटी की शादी का निमंत्रण पत्र की जगह पर मेहमानों और रिश्तेदारों को आंवला का पौधा बांट रही हैं। निमंत्रण देने का अनोखे तरीके की पूरे इलाके में खूब चर्चा हो रही है। दुलहन की मां विवाह निमंत्रण पत्र में कार्ड की जगह आवंला के पौधे अपने सगे संबंधियों व अतिथियों को भेज रही हैं।

8 दिसंबर को है शादी

खटौरी रामनगर की नव निर्वाचित मुखिया स्मिता चौरसिया का मानना है कि कार्ड में प्लास्टिक व स्याही पर्यावरण के लिए नुकसानदेह हैं तो वहीं देवी देवताओं के प्रतीक चिह्न का भी दुरुपयोग होता है। लिहाज़ा उन्होंने बिटिया की शादी में तकरीबन 2000 मेहमानों व आंगतुकों को बतौर आमंत्रण पत्र आवंला के पौधे भेज दिए हैं। कहा कि 8 दिसंबर को शादी होनी है। इसकी तैयारी अभी से चल रही है।

चर्चा का विषय

स्मिता चौरसिया की पुत्री कृषि वैज्ञानिक तृप्ति विजय की शादी शुभम कुमार से आगामी 8 दिसंबर को होनी है। समारोह में करीब दो हजार मित्र, शुभचिन्तक, अतिथि व रिश्तेदार शामिल होंगे। मां स्मिता चौरसिया निमंत्रण कार्ड की जगह आवले के पौधे दे रही हैं। पर्यावरण संरक्षण की दिशा में उनकी यह अनूठी पहल इलाके में चर्चा का विषय बन हुआ है।