समस्तीपुर में प्रेमिका से मिलने आया तो पकड़कर करवा दी शादी, दो माह की गर्भवती थी प्रेमिका

SAMASTIPUR : समस्तीपुर जिले में एक प्रेमी पर आरोप यह था कि प्रेमिका को गर्भवती करने के बाद भी शादी करने से बच रहा था। फिर क्या था इस बार प्रेमिका से मिलने आया तो पकड़ कर शादी करा दी गई। पंचायत के आदेश पर और ग्राम सरकार के प्रतिनिधियों की हाजिरी में यह शादी हुई है। युवक दूल्हन को ई-रिक्शे पर विदा करा ले तो गया, लेकिन जाते समय जब उससे पूछा गया कि शादी हुई है तो ठीक से रखोगे? जवाब दिया- मर्जी है, देखते हैं। वैसे, अममून बिहार के पकड़उआ ब्याह में दूल्हे को शादी नकारने पर पीटने का भी रिकॉर्ड रहा है लेकिन यह शादी शांतिपूर्ण तरीके से उत्सवी माहौल में हुई। शादी मंगलवार को हुई, हालांकि वीडियो वायरल होने के बाद अब मामला सामने आया है।

एक ही पंचायत के दोनों, लंबे समय से प्रेम करते थे

जानकारी के अनुसार, समस्तीपुर में खानपुर थाना क्षेत्र के जहांगीरपुर पंचायत अंतर्गत डेकारी गांव में सोमवार की रात प्रेमिका से मिलने चोरी-छिपे पहुंचे युवक को लड़की के परिजनों ने उसके कमरे में घुसते समय धर दबोचा। लड़की के परिजनों के शोरगुल पर आसपास के ग्रामीणों की भीड़ जुट गई तो गांव वालों ने उस युवक को बंधक बना लिया। अगले दिन मंगलवार को गांव में जनप्रतिनिधियों के साथ पंचायत बुलाई गई। काफी हंगामा के बाद पंचायत के फैसले पर ग्रामीणों ने मंदिर परिसर में भगवान को साक्षी मानकर दोनों की शादी करा दी। दूल्हा डेकारी वार्ड संख्या पांच निवासी रमेश महतो का पुत्र श्याम कुमार महतो है। युवती भी उसी पंचायत की है। लड़की के परिजनों का आरोप है कि उन दोनों के बीच लंबे समय से प्रेम प्रसंग चल रहा था और दोनों के बीच शारीरिक संबंध भी है। इसी कार लड़की दो महीने पहले गर्भवती हो गई।

पुलिस के पास जबरन शादी की शिकायत नहीं

शादी के बाद, दूल्हे ने अपने ऊपर लगाए गए आरोपों को खारिज करते हुए कहा कि मर्जी के खिलाफ जबरन शादी कराई गई है। दूल्हे से जब पूछा गया कि दुल्हन विदा कर ले जा रहे हो तो ठीक से रखोगे न, तो जवाब मिला कि देखेंगे। जो मन करेगा, वैसा करेंगे। पुलिस इस मामले में कुछ भी बोलने से बच रही है। सिर्फ इतना कहा जा रहा है कि अभी तक जबरन शादी की शिकायत नहीं आई है। आवेदन आया तो विधि-सम्मत कार्रवाई करेंगे।